आपका स्वागत "एक्टिवे लाइफ" परिवार में..........

आपका एक्टिवे लाइफ में स्वागत है

* आपका एक्टिवे लाइफ में स्वागत है * "वन्दे मातरम्" आपके सुझाव और संदेश मुझे प्रोत्साहित करते है! आप अपना सुझाव या टिप्पणि दे!* मित्रो...गौ माता की करूँ पुकार सुनिए और कम से कम 20 लोगो तक यह करूँ पुकार पहुँचाईए* गौ ह्त्या के चंद कारण और हमारे जीवन में भूमिका....

मंगलवार, जनवरी 11

याददाश्त को केसे सुधार करे !



आपनी याददाश्त में सुधार आए अपनाइए बेहतर नुस्खे

कोई भी चाहता नहीं पर अकसर वह उन्हीं चीजों को भूल जाता है, जिनको शिद्दत से याद रखना चाहता है। बाद में सिर पर हाथ पटक कर ‘शिट’ कहने से कोई गलती नहीं सुधरती। कई बार छोटी सी भूल से किसी अपने का दिल दुख जाता है तो कभी बॉस की लताड़ भी सुननी पड़ती है। हालांकि विशेषज्ञों की मानें तो भूलना कई बार अच्छी बात भी है क्योंकि इससे दिमाग पर फिजूल बोझ नहीं रहता। पर असल दिक्कत तब होती है, जब हम निहायत जरूरी चीजें या बातें भूल जाते हैं। अपने दिमाग को शॉर्प और दुरूस्त रखने के लिए अपनाइए बेहतर नुस्खे-

खुद पर विश्वास
यह मिथ है कि याददाश्त को सुधारा नहीं जा सकता। थोड़े से अतिरिक्त प्रयास और प्रैक्टिस से यह काम कोई भी कर सकता है। यह मान कर कि कुछ भी हो जाए मैं भुलक्कड़ नहीं हो सकता, अपने आत्मविश्वास को मजबूत बनाए रखें।

दिमाग का सही इस्तेमाल
दिमाग को चलाते रहें। चीजों को याद रखें पर स्टोर ना बनाएं, दिमाग को। कैलेंडर, डायरी, प्लानर, लिस्ट, फाइलों सबको व्यवस्थित करें और इनका इस्तेमाल करने की आदत डालें। फिजूल चीजें दिमाग पर लाद कर उसे मैला ना करें।

व्यवस्थित विचार

नकारात्मक विचारों से खुद को बचाएं। अच्छे और सकारात्मक विचार आपको आगे बढ़ाने में सहायक होते हैं। फालतू बातों और गुस्सा या चिड़चिड़ाहट पैदा करने वाली घटनाओं को जितनी जल्दी दिमाग से निकाल फेंकेंगे, दिमाग के लिए उतना ही अच्छा होगा।

होश-हवास
अपने दिमाग के साथ ही आंखें, दिल और कानों को खुला रखिए। आस-पास जो भी हो रहा है, उस पर कड़ी नजर रखिए। बिना कोई टीका-टिप्पणी किये, सकारात्मक तरीके से सोचते हुए आगे बढ़ते रहिए।

दुरूस्त दिमाग
हमेशा चैतन्य रहिए। पूरी नींद लीजिए ताकि सुस्ती ना रहे कभी। उनींदेपन के चलते और ताजगी के अभाव में ही दिमाग उचित रूप से काम नहीं कर पाता। साफ हवा में जितनी देर हो सके, लंबी-लंबी सांसें लें।

मेडीटेशन 
कुछ मिनट मेडीटेशन को जरूर दें। सारी उलझनों को निकाल कर दिमाग को खालीपन का एहसास भी करने दें। आंखें मूंद कर कुछ ना सोचने की कोशश करें। शुरू में थोड़ी दिक्कत जरूर आयेगी पर धीरे-धीरे आदत हो जाएगी।

चैलेंज ले 
दिमाग को हमेशा चैलेंज देते रहें क्योंकि यह निहायत ही आलसी है, इसको काम करना पसंद नहीं आता। यह कम से कम काम करने में ही संतुष्ट रहना चाहता है। इससे जबरन काम करवाना होता है। टारगेट तय करें और दिमाग को काम से लाद दें।

अपनाइए बेहतर नुस्खे और आपकी लाइफ एक्टिवे हो जाएगी !

10 टिप्‍पणियां:

  1. मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आपका आभार ...शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्तम बढिया बहुत सुन्दर ... आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपने तो आज खजाना ही दे दिया |

    उत्तर देंहटाएं
  4. और बहुत कमाल का लिखते हो!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपका सभी का बहुत बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपका सभी का बहुत बहुत शुक्रिया जो आप यहाँ आए और अपनी राय दी,हम आपसे आशा करते है की आप आगे भी अपनी राय से हमे अवगत कराते रहेंगे!

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में

सवाई सिंह को ब्लॉग श्री का खिताब मिला साहित्य शारदा मंच (उतराखंड से )