आपका स्वागत "एक्टिवे लाइफ" परिवार में..........

आपका एक्टिवे लाइफ में स्वागत है

* आपका एक्टिवे लाइफ में स्वागत है * "वन्दे मातरम्" आपके सुझाव और संदेश मुझे प्रोत्साहित करते है! आप अपना सुझाव या टिप्पणि दे!* मित्रो...गौ माता की करूँ पुकार सुनिए और कम से कम 20 लोगो तक यह करूँ पुकार पहुँचाईए* गौ ह्त्या के चंद कारण और हमारे जीवन में भूमिका....

शुक्रवार, जून 23

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर सुगना फाउंडेशन और अन्य संस्थाओं के साथ मिलकर आगरा में लगाए गए कई स्थानों पर योग शिविर

हेलो दोस्तों एक बार फिर से आप सभी के बीच अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष पर सुगना फाउंडेशन इंडिया कहीं प्रतिष्ठित संस्थाओं के साथ मिलकर आगरा में कई स्थानों पर योगा कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य रुप से डॉक्टर मदन प्रताप सिंह राजपुरोहित योगाचार्य आरबीएस मैनेजमेंट टेक्निकल केंपस आगरा, श्रीमती रेखा कवर, सुगना भवन सेक्टर 7 आवास विकास कॉलोनी, आगरा, डॉक्टर मदन प्रताप सिंह राजपुरोहित योगाचार्य डॉ टंडन नर्सिंग कॉलेज फतेहपुर सीकरी आगरा, श्रीमती आर्निका महेश्वरी योगाचार्य गांव सुनारी आगरा, आगरा श्रीमती नीमा सिंह योगाचार्य राजकीय प्राथमिक विद्यालय पटोली, बिचपुरी आगरा, श्रीमती रुचि वाधवा राजकीय हाई स्कूल प्रांगण गांव लालघड़ी, दयालबाग आगरा, दीपक सिंह योगाचार्य गुरु तेग बहादुर शाखा राष्ट्रीय सेवक संघ आगरा, दक्ष प्रताप सिंह योगा स्पोर्ट्स खिलाड़ी रूई की मंडी शाहगंज आगरा, श्रीमती रेखा भटेले लालपत कुंज पार्क खंदारी आगरा, योगाचार्य / योग परीक्षक शौर्य प्रताप (सवाई) सिंह राजपुरोहित, गाँव नगला तल्फ़ी, दयालबाग आगरा आदि स्थानों पर सम्मानित सदस्यो द्वारा योग कराया गया। 

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष पर मेरे द्वारा योग कार्यशाला 

माननीय राज्यपाल महोदया के निर्देशो के क्रम में गोद लिए गाँव नगला तल्फ़ी, दयालबाग आगरा में 9वे विश्व योग दिवस के अवसर पर सुगना फाउंडेशन एवं डॉ बी आर अंबेडकर विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वाधान में योगाचार्य / योग परीक्षक शौर्य प्रताप (सवाई) सिंह राजपुरोहित द्वारा योगाभ्यास कराया गया । 
इस योग कार्यशाला में ग्रामीणों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया। 
इस मौके पर डॉ बी आर अंबेडकर विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डॉ श्री ओम प्रकाश (परीक्षा नियंत्रक डॉ भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय) कार्यक्रम समन्वयक डॉ राजीव वर्मा (समाज कार्य विभाग, समाज विज्ञान संस्थान ) मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। मुख्य अतिथि के द्वारा योग परीक्षक को शॉल ओढ़ाकर सम्मान किया गया। 

योग परीक्षक सवाई सिंह ने ग्रामीणों की स्वास्थ के लिए योगा के महत्व के विषय में समझाया व योगा को अपने दैनिक जीवन में अपनाने की सलाह दी। 
योग कार्यक्रम में डॉ B R अम्बेडकर विश्वविद्यालय आगरा के छात्र सूरज इन्दौलिया, पूजा ,समीक्षा, रमा, सत्यम, आयुषी, सुमित, रिया, अरुन आदि उपस्थित रहे।

 विशेष सहयोग मिला










जिनको सहभागिता प्रमाण पत्र अगर नहीं मिला है तो वह कृपया हमारे व्हाट्सएप नंबर 9286464911 पर संपर्क करें या डॉक्टर मदन प्रताप सिंह राजपुरोहित से संपर्क कर 9219666141 ताकि आपको बता दिया जाए कि यह सर्टिफिकेट डाउनलोड कैसे होगा। 


शुक्रवार, मई 12

दीपांशु ने मां के प्रति जो प्रेम दिखाया है वह आज के समय बहुत कम लोगों में ही देखने को मिलता है

 मां के प्रति प्रेम को दर्शाती यह खबर 

खबर झारखंड की राजधानी रांची से हैं यहां एक निजी अस्पताल के डॉक्टर ने वह करके दिखाया है जो आप और हम सोच भी नहीं सकते जहां एक और निजी अस्पतालों में लूट की आए दिन खबरें आती है वही रांची से डॉक्टर विकास की बहुत ही शानदार पहल देखने को मिलती है क्या है पूरी खबर जानते हैं। 

बिहार के गया जिले से रहने वाले दीपांशु नाबालिग लड़के ने मां के प्रति अपने प्रेम को जाहिर कर सभी का दिल जीत लिया है खबरों के मुताबिक इस नाबालिग लड़के के पिता नहीं हैं और जब बच्चे की मां बीमार हुईं तो पैसे की तंगी से परेशान लड़के ने अपनी ही किडनी बेचने का फैसला कर लिया. इसके लिए वह रांची के रिम्स अस्पताल के पास के एक निजी अस्पताल में किडनी बेचने पहुंच गया. जहां नाबालिग लड़के की मुलाकात इस दौरान एक शख्स से हुई जिसने रिम्स के डॉ. विकास से करा दी. डॉ. विकास ने नाबालिग से कहा कि वह अपनी मां को रिम्स लेकर आए, यहां उनका निशुल्क इलाज किया जाएगा.

आज कल एक और तो डॉक्टर और अस्पताल ऐसे भी हैं जो मरीज को क्या उसके घरवालों को भी लूट लेते है। ज्यादातर अब तो सरकारी अस्पताल में भी विवशता ठीक है और मरीज उसका लाभ भी ले रहे हैं लेकिन ये प्राइवेट अस्पताल बहुत लूटते हैं अगर कोई मरीज मर भी जाता है तो ये प्राइवेट अस्पताल उनके घरवालों से पैसे हड़पते हैं बिना पैसे के तो लाश भी नहीं दी जाती है बहुत लूटते हैं। उस बीच में अगर ऐसी खबर आती है तो वाकई में दिल को बहुत खुशी मिलती है हॉस्पिटल के डॉक्टर विकास जी और उनकी पूरी टीम को बहुत-बहुत बधाई और शुभकामनाएं आप ऐसे ही समाज उत्थान में अपना योगदान देते रहें और दीपांशु ने मां के प्रति जो प्रेम दिखाया है वह आज के समय बहुत कम लोगों में ही देखने को मिलता है।  

ट्विटर पर डॉक्टर विकास जी द्वारा शेयर की गई इस पोस्ट को आप देख सकते हैं। इस स्क्रीनशॉट पर क्लिक करें और आपकी डॉक्टर साहब की बॉल पर पहुंचकर इस वीडियो को देख सकते हैं



शनिवार, दिसंबर 10

दुनिया में आशीष सर जैसे लोग बहुत कम ही पैदा होते है I

दोस्तों भगवान हम सभी के जीवन में कहीं ना कहीं कभी ना कभी ऐसे शख्स को जरूर भेजते है जो हमारे जीवन को बिल्कुल परिवर्तन कर के लिए भेजते हैं और वह किसी भी रूप में हो सकता है पिता के रूप में, मां के रूप में, भाई के रूप में, दोस्त के रूप में, जीवन साथी के रूप में, एक वरिष्ठ सहयोगी के रूप में और भी बहुत सारे रूपो मे भगवान हमें किसी ना किसी से जरूर मिलाता है जो हमारे जीवन में अचानक से एक परिवर्तन लेकर आता है । कई बार हम ऐसे व्यक्ति को पहचान लेते हैं और कई बार हम पहचान के भूल जाते हैं या अन्य शब्दों में कहूं कि हमें उन की वैल्यू नहीं समझते.. और वो जल्द ही हम लोगों से दूर भी हो जाते हैं लेकिन हमें वह सीख हमेशा अच्छी ही देकर जाते हैं। और ऐसे व्यक्तित्व पर मैंने हमेशा कुछ ना कुछ लिखने का प्रयास किया है। 

मेरे जीवन में भी एक ऐसे ही शख्सियत से मिलना हुआ । जिन्होंने बहुत ही कम समय में मेरे जीवन पर इतना अच्छा प्रभाव छोड़ा है कि शायद मैं जीवन में या अपने कैरियर में ऐसे व्यक्ति से कभी नहीं मिला जी हां मैं बात कर रहा हूं श्रीमान आशीष शर्मा जी स्टोर मैनेजर रिलायंस ट्रेंड्स आप ने 28 अगस्त 2022 को स्टोर ज्वाइन किया। 

मैं अपने रिटेल कैरियर के 8 सालों की बात करूं मुझे इनके मुकाबले जिंदादिली इंसान नहीं देखा। आपके साथ काम करके मुझे वाकई एक सुखद अनुभव की अनुभूति होती है आपने हर बार कुछ नया सीखने को मिल रहा है खास करके आप परिवार को लेकर जो उदाहरण प्रस्तुत करते हैं वह बातें ही दिल को छू जाते हैं कई बार तो रोना तक आता है आप टीम को जिस प्रकार एकजुटता के साथ काम करवाते हैं। 

 वह वाकई में अब तक किसी स्टोर मैनेजर के अंदर वह काबिल मैंने नहीं देखी यह मेरा व्यक्तिगत अनुभव ही नहीं मेरे साथ काम करने वाले अन्य मित्रों का और मेरे सहयोग का भी यही विचार है आपके आने के बाद मेरे जीवन में काफी कुछ परिवर्तन आया है मेरी सोचने की क्षमता में काफी कुछ परिवर्तन हुआ है । यह सिर्फ आपका विश्वास ही है जो आपने मुझे इस काबिल समझा और कुछ जिम्मेदारियां आपने मुझे दी मैं आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास के साथ भरोसा देता हूं कि मैं सदैव उन पर खरा उतरूंगा। मुझे कभी भी यह नहीं लगा कि मैं सिर्फ स्टोर का स्टाफ मुझे हमेशा यह लगा कि एक परिवारिक सदस्य के रूप में मैं कार्य कर रहा हूं। आपने कुछ कम समय में ही स्टोर के सभी सदस्यों का दिल जीत लिया है आपके साथ काम करके सब का मनोबल बढ़ा है इसमें कोई दो राय नहीं है। हालांकि आपके साथ काम करने का मौका हमें बहुत ही कम मिला लेकिन जो मिला वह वाकई में एक यादगार लम्हा है भविष्य में हम कभी किसी प्लेटफार्म पर एक साथ काम करेंगे ऐसी मै दिल ही तमन्ना रखता हूं आपसे मैंने बहुत कुछ सीखा है और आपने मुझे बहुत कुछ सिखाया है । 

आपके द्वारा दिया यह सबक मुझे सदैव याद रहेगा। 

"लोगों पर आंखें बंद करके भरोसा मत करो"

मुझे याद है वह दिन 23 नवंबर 2022 वाला सबक जीवन भर याद रहेगा। कि लोगों पर आंख बंद करके भरोसा नहीं करना चाहिए आपने किस प्रकार मेरे आंखों से ऊपर लगी पट्टी को हटाया है। अगर उस दिन सच मेरे सामने नहीं आता तो मैं शायद और धोखे खाता। हर बार जो हम देखते हैं वह सच नहीं होता या जो हम हमें बता रहा होता है ना वह सच होता है सच कुछ और ही होता है जब तक हमें सच नहीं मालूम होता है हम हमेशा गलत ही सोचते हैं। लेकिन आपका यह सच मेरे जीवन में बातें ही बहुत परिवर्तन लेकर आया उसके बाद मैंने लोगों के प्रति सोचने का नजरिया काफी हद तक बदल दिया है मैं वास्तविकता को पहचानने का कुछ हद तक प्रयास कर रहा हूं। वैसे तो आपके बहुत सारे सबक मेरे जेहन में है जो आपने दूसरों को दिए हैं लेकिन उन्होंने शायद अपने जीवन में नहीं उतारा लेकिन मैं उसे अपने जीवन में उतारने का हर संभव प्रयास कर रहा हूं शायद इतना तो कोई अपने परिवार के सदस्य भी नहीं समझा सकते । जितना आपने उन लोगों को समझाया है लेकिन फिर भी वह आज भी वही कर रहे हैं जो उन्हें नहीं करना चाहिए । आपने सदैव लोगों के हित में ही कुछ ना कुछ बताया होगा। क्योंकि अब तक मैं ऐसे लोगों के साथ भी काम किया जिनका कथनी और करनी में बहुत बड़ा अंतर था लेकिन आप बिल्कुल विपरीत हैं आप जो कहते हैं वास्तविकता में ऐसे ही हैं आप की कथनी और करनी में कोई अंतर नहीं है। मैंने बहुत करीब से आपको देखा है आपके विचारों को समझा है आप बिल्कुल अपने पिताजी की दी हुई शिक्षा का सदुपयोग कर रहे हैं उनके दिखाए हुए मार्ग पर चल रहे हैं और लोगों को भी एक अच्छे मार्ग पर ले जाने का प्रयास कर रहे हैं। लोगों को लग रहा होगा इसमें कोई आपका हित है जबकि  ऐसा कुछ भी नहीं है। मैं प्रभु से सदैव प्रार्थना करूंगा आप सदैव खुश रहें...आप जैसे इस दुनिया मे बहुत कम् है भगवान आपको हमेसा स्वस्थ रखे....


श्रीमान अतुल कुशवाहा जी सर

श्रीमान यशपाल सिंह जी सर

वैसे तो मैं कई स्टोर मैनेजर डिपार्टमेंट मैनेजर ओं के साथ काम किया है लेकिन अब तक के इस कैरियर में मुझे सिर्फ श्रीमान अतुल कुशवाहा जी,  श्रीमान यशपाल सर और श्रीमान आशीष शर्मा जी ने दिल से प्रभावित किया। हालांकि यह सच है कि मुझे आप लोगों के साथ काम करने का मौका बहुत कम मिला लेकिन जो भी मिला वह वाकई अविश्वसनीय है। 

नीचे दिए गए लिंक पर जाकर आप श्रीमान यशपाल सर के ऊपर लिखा मेरा यह आर्टिकल पढ़ सकते हैं एक अद्भुत विदाई

https://sawaisinghrajprohit.blogspot.com/2021/03/Dil.ki%20baat%20apke.sath.html

आपका सवाई सिंह राजपुरोहित (एसएम सीरीज 3)

चलते-चलते कुछ यादगार लमहे आप के साथ शेयर कर रहा हूं फोटो के माध्यम से... 






















Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में

सवाई सिंह को ब्लॉग श्री का खिताब मिला साहित्य शारदा मंच (उतराखंड से )