आपका स्वागत "एक्टिवे लाइफ" परिवार में..........

आपका एक्टिवे लाइफ में स्वागत है

* आपका एक्टिवे लाइफ में स्वागत है * "वन्दे मातरम्" आपके सुझाव और संदेश मुझे प्रोत्साहित करते है! आप अपना सुझाव या टिप्पणि दे!* मित्रो...गौ माता की करूँ पुकार सुनिए और कम से कम 20 लोगो तक यह करूँ पुकार पहुँचाईए* गौ ह्त्या के चंद कारण और हमारे जीवन में भूमिका....

शनिवार, सितंबर 25

किसी को राजस्थान देखना हो तो 25 और 26 तारीख को राजस्थान में आये.

 किसी को राजस्थान देखना हो तो 25 और 26 तारीख को राजस्थान में आये. 

25 और 26 को ही क्यों?

क्योंकि इस दिन आपको देखने को मिलेगी राजस्थान की अपणायत.

          राजस्थान में 26 तारीख को REET की परीक्षा है. राजस्थान के हर जिले में जिस जिस जगह परीक्षा हो रही है वहॉ के निवासियों द्वारा परीक्षार्थियों के लिए नि:शुल्क भोजन और आवास की व्यवस्था की गई है.

               पिछले दो दिनों से मोबाइल में मैसेज्स की बाढ सी आ गई है. हर जगह निःशुल्क व्यवस्था के मैसेज आ रहे हैं.

 यही तो राजस्थान की अपणायत है.

👉यही तो निरालो राजस्थान है. 👉यही तो रंगीलों राजस्थान है.

        परीक्षा दो पारी में है तो कई जगह परीक्षा केन्द्रों तक भोजन के पैकेट पहुंचाये जाने की योजना बनाई गई है ताकि दोपहर में परीक्षा देने वाला कोई छात्र भूखा नहीं रहे।

         यह व्यवस्था प्रारंभ में समाजिक तौर पर की गई थी पर अब लगभग हर जगह सर्व समाज के लिए व्यवस्था हो गई है.

     रीट की यह परीक्षा राजस्थान के सामाजिक ताने बाने में नई इबारत लिख रही हैं.

आज यह सब देखकर मुझे राजस्थानी होने पर गर्व है.

      आज पूरा राजस्थान REET परीक्षा के एकसूत्र में बंध गया है. ऊँच-नीच, जाति, धर्म, लिंग, समाज सभी बंधनों से मुक्त होकर रीट के कारण आपणोमय राजस्थान 25 और 26 को देखने को मिलेगा.

👉 पधारो म्हारे राजस्थान देखो म्हारो राजस्थान


बुधवार, सितंबर 22

अच्छे लोग वे होते हैं जो बुरे वक्त में भी अच्छे होते हैं

हेलो दोस्तों नमस्कार बहुत समय बाद एसएम सीरीज की यह पोस्ट लिखने जा रहा हूँ। अगस्त माह मेरे लिए काफी उतार-चढ़ाव वाला माह रहा जहां जीवन में बहुत कुछ खोया और बहुत कुछ पाया है। बहुत सारे नेगेटिव विचार भी आए मन में लेकिन अफसोस नहीं करूंगा क्योंकि जो कुछ पाया वह मैंने अपने मेहनत और अपने बलबूते पर पाया किसी की गुलामी या सेवा चाकरी करके प्राप्त नहीं किया। इसीलिए खुशी है कि जितना हासिल किया वह अच्छा था और ऊपर वाले से हमेशा यही दुआ करूंगा कि जो कुछ मिले वह मुझे सिर्फ मेरी मेहनत का मिले। जीवन में एक चीज बहुत कमाई वह है आप लोगों का प्यार और आप लोगों का आशीर्वाद जो मुझे हर मुश्किलों से निकालता है और मुझे और बेहतरीन करने की प्रेरणा देता है आप लोगों के शुभकामनाएं संदेश मुझे मिलते हैं चाहे वह मेरे संगठन के नाम पर हो या मेरे व्यक्तिगत द्वारा किए गए कार्य पर हो मुझे बड़ा हर्ष होता है कि हां हम कुछ समाज के लिए कुछ बेहतरीन करने का प्रयास कर रहे हैं आज भारतवर्ष से मेरे पास कई लोगों के व्हाट्सएप, फोन कॉल और मैसेज प्राप्त होते हैं जिसमें वह बहुत सारी बातें लिखते हैं जिसके बाद मेरे मन को तो बहुत हर्ष होता है कि हां मेरा संगठन और मैं कुछ अच्छा कर रहा हूं और मुझे आगे भी यह जारी रखना चाहिए और ऊपर वाले की दया से और आप लोगों के सहयोग से मैं ऐसा आगे भी करता रहूंगा मैं अपने संगठन के तमाम उन कार्यकर्ताओं का भी आभार प्रकट करता हूं जो मेरे साथ इस मुहिम में जुड़े हुए हैं हम सब का उद्देश्य सिर्फ यह है मानव सेवा के लिए जो बन पाए वह हम करने का प्रयास करें पर यह सब कुछ प्रेरणा मुझे अपने पूज्य माता जी स्वर्गीय श्रीमती सुगना राजपुरोहित जी से मिलती है उनके बताए हुए मार्ग पर चलने का हर संभव प्रयास करूंगा । आज सुगना फाउंडेशन मेघलासिया आप ही के कार्यों की अनुसरण करते हुए आगे बढ़ रहा है। माता जी द्वारा कही गई कुछ बातें आज भी मेरे जेहन में रहती है माता जी हमें बताती थी कि जीवन में जो लोग गलत तरीकों से पैसा कमा लेता है उसका लाभ तो कोई भी उठा लेगा लेकिन उनके कर्मों का फल स्वयं को ही भुगतना पड़ता है। इसीलिए जीवन में हमेशा अच्छे कर्म करते रहना।

 समर्पित चंद लाइनें उन लोगों के नाम जो बुरे वक्त में भी अच्छे बने रहे।

जो रहीम उत्तम प्रकृति, का करी सकत कुसंग ।

चन्दन विष व्याप्त नहीं, लिपटे रहत भुजंग ।।

अर्थ : रहीम जी कहते हैं कि जो अच्छे स्वभाव के मनुष्य होते हैं, उनको बुरी संगति भी बिगाड़ नहीं पाती । जहरीले सांप चन्दन के वृक्ष से लिपटे रहने पर भी उस पर कोई जहरीला प्रभाव नहीं डाल पाते ।

जीवन में चिंता न करें सत्य परेशान हो सकता है परास्त नहीं । अच्छे लोगों के मार्ग में बुरे लोग ईष्र्यावस मुश्किलें एवं बाधाएं उत्पन्न कर देते है लेकिन ईश्वर उनके लिए और भी कई रास्ते तैयार कर देता है। मैं जीवन में ईश्वर पर बहुत भरोसा किया है और ईश्वर ने मुझे कभी निराश नहीं किया है अपने जीवन में सिर्फ अगर किसी को साथ ही बनाना है तो सिर्फ ऊपर वाले को जिस दिन आपने उसको अपना साथी बना दिया ना फिर आपका कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता भरोसा रखिए।


इन्हीं शब्दों के साथ इस वाणी को विराम देता हूं आपका सवाई सिंह राजपुरोहित एसएम सीरीज 3 

मंगलवार, अगस्त 31

श्री कृष्ण जन्माष्टमी हमें उम्मीद दिलाती है

श्री कृष्ण जन्माष्टमी के पावन अवसर पर आप लोगों के बीच रख रहा हूं कुछ विचार .. 

श्री कृष्ण जन्माष्टमी हमें उम्मीद दिलाती है कि जीवन मे हालात चाहे कितने भी विपरीत हों , यदि ईश्वर की कृपा है तो कारागार के दरवाजे भी खुल जाएंगे , घनघोर अंधकार में भी मार्ग प्रशस्त हो जाएगा , उफनती नदी भी रास्ता दे देगी और अंतः दुःख परमानन्द में परिवर्तित हो जाएगा । इसलिए जीवन में जब संकट आए तो समझ जाना प्रभु हमारे साथ है वही आप हमारा आगे का मार्ग दर्शन करने वाले हैं।

मैं जीवन में एक बात को हमेशा अपने दिल (हृदय) में रखता हूं जब ऊपरवाला मेरे साथ है तो क्या फर्क पड़ता है की कौन मेरे खिलाफ है !!

 आज का दिन बहुत ही शानदार था किसी प्रकार का कोई काम था जीवन में ना किसी चीज को पाने की अभिलाषा घर से मंदिर मंदिर से ऑफिस और फिर आगरा सेंट्रल जेल जाना हुआ जहां भगवान श्री कृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर बहुत ही अच्छे और भव्य रुप से सजाई जाती है हालांकि मैं प्रवेश नहीं कर पाया क्योंकि एंट्री शाम 9:00 बजे तक की थी और मैं 10:30 बजे पहुंचा। हालांकि भाई साहब ने बहुत प्रयास किया लेकिन सरकारी नियमों का पालन करना हम सभी भारतीयों का कर्तव्य है इसलिए मैंने आगे कोई प्रयास नहीं किया । बाहर ली मेरी व मेरे दोस्त वेद प्रकाश फोटो आपके साथ शेयर कर रहा हूं। वैसे मेरे बड़े भाई साहब डॉ मदन प्रताप सिंह राजपुरोहित जी पिछले 5 दिनों से अपनी निशुल्क सेवाएं दे रहे हैं आगरा सेंट्रल जेल में उनके साथ उनकी टीम के कई सदस्य भी सेवाएं दे रहे हैं यह काफी सराहनीय कार्य है टीम सुगना फाउंडेशन किसी प्रकार सामाजिक सरोकार की भावना से काम करती रहेगी यह संगठन मेरी पूज्य माता जी स्वर्गीय श्रीमती सुगना राजपुरोहित धर्मपत्नी ठा श्री बिरम सिंह राजपुरोहित की याद में बनाया एक संगठन है हमारा प्रयास है कि हम समाज में कुछ बेहतर करें और माता जी के दिखाए मार्ग पर चलने का प्रयास कर रहे हैं।

  आज सेंट्रल जेल कृष्ण जन्माष्टमी के दिन नगर वासियों के लिए सेंट्रल जेल के द्वार खोले जाते हैं और भव्य रुप से सजी कृष्ण जन्माष्टमी के दर्शन हम कर सकते हैं इस बार दर्शन नहीं कर पाया पर नेक्स्ट टाइम कृष्ण जन्माष्टमी के मौके पर मैं अपनी इस जिज्ञासा को जरूर शांत करूंगा आज के लिए इतना ही..

सुगना फाउंडेशन परिवार की ओर से जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं 

आपका सवाई सिंह राजपुरोहित 
(एसएम सीरीज 3 )
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में

सवाई सिंह को ब्लॉग श्री का खिताब मिला साहित्य शारदा मंच (उतराखंड से )